बिहार मे MLA के बच्चें आ सकते है कोटा से पर सामान्य परिवार के बच्चें नहीं

बिहार है भैया यहाँ विधायक के बच्चों के लिए गाड़ी राजस्थान जा सकती पर सामान्य परिवार के बच्चो को लाने से श्री नितीश कुमार जी लॉक डाउन के मर्यादा मे ठेश लग जाता हैं हुआ यु की 15-04-2020 का एक पास आज सोशल मिडिया मे घूम रहा है जिसमे लोगो के मन मे प्रश्न उठ रहे है, आइये जानते है आखिर है क्या ये मामला

नीतीश ने कोटा से छात्रों को लाने की मांग को बताया था गलत
मालूम हो कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने लॉकडाउन की वजह से कोटा में फंसे छात्रों को लेकर अपनी मंशा साफ कर दी है .उन्होंने स्पष्ट किया था कि कोटा में फंसे छात्रों को वापस नहीं बुलाया जाएगा. इससे पहले शनिवार को भी नीतीश कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान स्पष्ट कर दिया था कि कोटा में फंसे छात्रों को बुलाने की जो मांग की जा रही है पूरी तरह से गलत है .अगर ऐसा होगा तो फिर लॉकडाउन का क्या मतलब?
पीके ने पूछे सवाल
बीजेपी विधायक की इस करतूत पर राजनीति भी शुरू हो गई है. नीतीश कुमार के पुराने साथी रहे प्रशांत किशोर ने वाहन पास दिखाते हुए नीतीश कुमार पर हमला बोला है. पीके ने ट्वीट करते हुए लिखा कि कोटा में फँसे बिहार के सैकड़ों बच्चों की मदद की अपील को @NitishKumar ने यह कहकर ख़ारिज कर दिया था कि ऐसा करना #lockdown की मर्यादा के ख़िलाफ़ होगा। अब उन्हीं की सरकार ने BJP के एक MLA को कोटा से अपने बेटे को लाने के लिए विशेष अनुमति दी है। नीतीश जी अब आपकी मर्यादा क्या कहती है?

Share this post on:

One Reply to “बिहार मे MLA के बच्चें आ सकते है कोटा से पर सामान्य परिवार के बच्चें नहीं”

  1. Mtlb ye jo ki saaf saaf darsata h ki ek hi desh m do sambidhan hoga….ek gribo ke lie aur dusri amiro ke lie amiro ke sambidha m likha hoga ye jo amir jo chahe kr skta h aur grib ap e mn se leting aur paisap b nhi kr skta….ghin aati h aise netao pe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *